“Happy Deepawali to all, दीपावली की बहुत बहुत बधाइयां

https://wondertips777.com/watch-happy-deepawali-to-all-%e0%a4%a6%e0%a5%80%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%b2%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%a4-%e0%a4%ac/

Site icon

Motivational Blogs by: Life Coach VK Chaudhry

“Happy Deepawali to all, दीपावली की बहुत बहुत बधाइयां

Life Coach V K CHAUDHRY

 Life Coach V K CHAUDHRY12 months ago

Advertisementshttps://d-312675706114400569.ampproject.net/2110212130002/frame.html

Happy Deepawali to all my friends with their family members & friends.

दीपावली का त्योहार हमें बहुत अच्छा लगता है। हम सब लोग आपस में बैठकर भोजन करते हैं।भारत में व कई देशों में इसे बड़ी खुशी से मनाते हैं।इस दिन भगवान रामचंद्र जी रावण को हरा कर अयोध्या वापस लोटे थे।

दीपावली, दिवाली या दीवाली शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिन्दू त्यौहार है।[2][3] दीपावली कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है जो ग्रेगोरी कैलेंडर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली भारत के सबसे बड़े और सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दीपावली दीपों का त्योहार है। आध्यात्मिक रूप से यह ‘अन्धकार पर प्रकाश की विजय’ को दर्शाता है।[4][5][6]

www.Deepawali.co.in

दीवाली
The Rangoli of Lights.jpg
रंगीन पाउडर का प्रयोग कर रंगोली सजाना दीवाली में काफी प्रसिद्ध है
अन्य नाम
दीपावली
अनुयायी
हिन्दू, सिख, जैन और बौद्ध [1]
उद्देश्य
धार्मिक निष्ठा, उत्सव
उत्सव
दिया जलना, घर की सजावट, खरीददारी, आतिशबाज़ी, पूजा, उपहार, दावत और मिठाइयाँ
आरम्भ
धनतेरस, दीवाली से दो दिन पहले
समापन
भैया दूज, दीवाली के दो दिन बाद
तिथि
कार्तिक माह की अमावस्या
समान पर्व
काली पूजा, दीपावली (जैन), बंदी छोड़ दिवस
भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है।

इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्हात् (हे भगवान!) मुझे अन्धकार से प्रकाश की ओर ले जाइए। यह उपनिषदों की आज्ञा है। इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं[7][8] तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है।

माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।[9] अयोध्यावासियों का हृदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।

भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं।

घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ-सुथरा कर सजाते हैं। बाजारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाजार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।

दीवाली के दिन नेपाल, भारत,[10] श्रीलंका, म्यांमार, मारीशस, गुयाना, त्रिनिदाद और टोबैगो, सूरीनाम, मलेशिया, सिंगापुर, फिजी, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की बाहरी सीमा पर क्रिसमस द्वीप पर एक सरकारी अवकाश होता है।

दीपावलीदिवाली या दीवाली शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिन्दू त्यौहार है।[2][3] दीपावली कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है जो ग्रेगोरी कैलेंडर के अनुसार अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है। दीपावली भारत के सबसे बड़े और सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है।

दीपावली दीपों का त्योहार है। आध्यात्मिक रूप से यह ‘अन्धकार पर प्रकाश की विजय’ को दर्शाता है।[4][5][6]दीवाली
रंगीन पाउडर का प्रयोग कर रंगोली सजाना दीवाली में काफी प्रसिद्ध हैअन्य नामदीपावलीअनुयायीहिन्दूसिखजैन और बौद्ध[1]उद्देश्यधार्मिक निष्ठा, उत्सवउत्सवदिया जलना, घर की सजावट, खरीददारी, आतिशबाज़ी, पूजा, उपहार, दावत और मिठाइयाँआरम्भधनतेरस, दीवाली से दो दिन पहलेसमापनभैया दूज, दीवाली के दो दिन बादतिथिकार्तिक माह की अमावस्यासमान पर्वकाली पूजादीपावली (जैन)बंदी छोड़ दिवस

भारतवर्ष में मनाए जाने वाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्हात् (हे भगवान!) मुझे अन्धकार से प्रकाश की ओर ले जाइए। यह उपनिषदों की आज्ञा है। इसे सिखबौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं। जैन धर्म के लोग इसे महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाते हैं[7][8] तथा सिख समुदाय इसे बन्दी छोड़ दिवस के रूप में मनाता है।

माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।[9] अयोध्यावासियों का हृदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से प्रफुल्लित हो उठा था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए। कार्तिक मास की सघन काली अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी।

तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। भारतीयों का विश्वास है कि सत्य की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती हैं। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं।

घरों में मरम्मत, रंग-रोगन, सफेदी आदि का कार्य होने लगता है। लोग दुकानों को भी साफ-सुथरा कर सजाते हैं। बाजारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाजार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।

दीवाली के दिन नेपालभारत,[10] श्रीलंकाम्यांमारमारीशसगुयानात्रिनिदाद और टोबैगोसूरीनाममलेशियासिंगापुरफिजीपाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया की बाहरी सीमा पर क्रिसमस द्वीप पर एक सरकारी अवकाश होता है।

Diwali is a festival of lights and one of the major festivals celebrated by Hindus, Jains, Sikhs and some Buddhists, notably Newar Buddhists. The festival usually lasts five days and is celebrated during the Hindu lunisolar month Kartika. 

WikipediaObservances: Diya and lighting, home decoration, shopping, fireworks, puja (prayers), gifts, feast, and sweet Date: Thursday, 4 November, 2021Featured in religions: HinduismSikhismJainismNewar Buddhism

See my blogs on my website, please.

www.wondertips777.com

Deepawali.co.in

AFFILIATE LINKS AMAZON.IN

Garments for all


Babycare

Bestsellers in computers

Bestsellers in Laptops

Bestsellers in health & personal care

Boys apparels

Women

Women sportswear

Menswear

Kitchen choppers

Books Personal development https://www.amazon.in/gp/bestsellers/books/1318128031?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=0fe0869c070d6e04a2096559184c538c&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl Please email us if you have any concerns at wondertips777@gmail.com   

Related

Categories: UncategorizedTags: #Love #motivationalspeaker #motivation #goldystastefulkitchen #wondertips#wondertips #goldystastefulktchenaffiliate marketingaffirmationAmazon affiliatehappy Deepawali

Motivational Blogs by: Life Coach VK Chaudhry

Back to topExit mobile version

Table of Contents

Leave a Reply