टायर फटने के हादसों को कैसे रोका जाए||Why so highVehicle Tyres Bursting due to high air pressure?

ब्लॉगर पॉडकास्टर यूट्यूब लेखक वस्त्र उद्योग के विशेषज्ञ का कहना है कि ज्यादा कारों में ट्रकों में टायर का प्रेशर ज्यादा रखने से केवल नुकसान है इसलिए प्रेशर के बारे में जागरूक रहें।

भयानक हादसों से बचने का केवल एक ही उपाय जागरूकता।।

कल औरंगाबाद के 7 युवकों कि सड़क हादसे में मौत हुई …. वजह कार के टायर का फटना

IMPORTANT MSG,

आजकल नए बने एक्सप्रेस वे पर रोजाना गाड़ियों के टायर फटने के मामले सामने आ रहे हैं……

जिनमें रोजाना कई लोगों की जानें जा रही हैं.एक दिन बैठे बैठे मन में प्रश्न उठा कि आखिर देश की सबसे आधुनिक सड़कोँ पर ही सबसे ज्यादा हादसे क्यूँ हो रहे हैं?

और हादसों का तरीका भी केवल एक ही वो भी मात्र टायर फ़टना, ऐसा कौन सी कीलें बिछा दीं सड़क पर हाईवे बनाने वालों ने कि सबके टायर ही फ़टते है?

दिमाग ठहरा खुराफाती सो सोचा आज इसी बात का पता किया जाये. तो टीम जुट गई इसका पता लगाने में.

अब सुनिए, हमने प्रयोग के लिए एक मित्र को बुला लिया और हम Scorpio SUV से निकल पड़े (ध्यान रहे असली मुद्दा टायर फटना है) सबसे पहले हमनें ठन्डे टायरों का प्रेशर चेक किया और उसको अन्तराष्टीय मानकों के अनुरूप ठीक किया जो कि 25 PSI है..

(सभी विकसित देशों की कारों में यही हवा का दबाव रखा जाता है जबकि हमारे देश में लोग इसके प्रति जागरूक ही नहीं हैं या फिर ईंधन बचाने के लिए जरुरत से ज्यादा हवा टायर में भरवा लेते हैं जो की 35 से 45 PSI आम बात है)..

खैर अब आगे चलते हैं. इसके बाद फोर लेन पर हम चढ़ गए और गाड़ी दौड़ा दी..

गाडी की स्पीड 120 – 140 KM/HR रखी..

इस रफ़्तार पर गाडी को दो घंटे दोड़ाने के बाद हम उदयपुर के पास पहुँच गए थे।
रूककर हमने दोबारा टायर प्रेशर चेक किया तो यह चोंकाने वाला था,
अब टायर प्रेशर था 52 PSI
अब प्रश्न उठता है कि आखिर टायर प्रेशर इतना बढ़ा कैसे, सो उसके लिए थर्मोमीटर को टायर पर लगाया तो टायर का तापमान था 92.5 डिग्री सेल्सियस,

सारा राज अब खुल चुका था, कि टायरों के सड़क पर घर्षण से तथा ब्रेकों की रगड़ से पैदा हुई गर्मी से टायर के अन्दर की हवा फ़ैल गई B2B टायर के अन्दर हवा का दबाव इतना अधिक बढ़ गया।
चूँकि हमारे टायरों में हवा पहले ही अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप थी सो वो फटने से बच गए।
लेकिन जिन टायरों में हवा का दबाव पहले से ही अधिक (35 -45 PSI) होता है..
या जिन टायरों में कट लगे होते हैं उनके फटने की संभावना अत्यधिक होती है।

अत: फोर लेन पर जाने से पहले अपने टायरों का दबाव सही कर लें और सुरक्षित सफ़र का आनंद लें।
मेरी एक्सप्रेस वे अथोरिटी से भी ये विनती है कि वो भी वाहन चालकों को जागरूक करें, ताकि हाईवे का सफ़र अंतिम सफ़र न बने, आप सभी फेसबुक और whatsapp मित्रों से अनुरोध है कि इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें।

चूँकि ऐसा करके आपने यदि एक जान भी बचा ली तो आपका मनुष्य जन्म धन्य होगा।

What is tyre pressure and why is it important?

With all the different things we have to think about these days, our car’s tyre pressure probably doesn’t make it anywhere near the top of the list – but it should. Tyres are literally ‘where the rubber meets the road’ and looking after them is incredibly important. They support the car’s weight and distribute it evenly, and their ability to do that is dependent on the air we put in them and how diligently we monitor its pressure.

Driving with too little (or too much) air pressure in tyres can affect ride comfort, cornering ability, grip during braking, general handling and directional stability. Having incorrect tyre pressure isn’t just inefficient – it can also be a serious safety risk, especially at higher speeds.

Every vehicle has a specified tyre pressure recommended by the car and tyre manufacturer. To get the lowdown on your vehicle’s official tyre pressure recommendations, check your vehicle owner’s handbook, the fuel filler flap or the placard located inside the driver’s door. Pressure is typically measured in PSI (pounds per square inch). In some vehicles, recommended pressures for front and rear tyres may be different.

https://images.app.goo.gl/qvTmZ7swVxh3G54B9https://images.app.goo.gl/qvTmZ7swVxh3G54B9

In certain situations (driving in sand, towing a trailer or carrying extra weight), you may need to change your tyre pressure from its normal levels. If your vehicle handbook or other car documentation doesn’t cover these circumstances, check with a professional for advice. As a rule, your best bet is to always stick to manufacturer’s recommendations.

Air pressure in tires is measured in pounds per square inch, or PSI; usually, the recommended pressure ranges between 30 and 35 PSI.

To learn what your tire pressure should be, look for your manufacturer’s recommendation, which is printed on a label inside your car.

https://www.researchgate.net/publication/327109245_The_role_of_tire_in_car_crash_its_causes_and_prevention

have a safe journey

https://www.cars24.com/blog/tyre-burst-reasons-prevention/

https://www.usatoday.com/story/money/cars/2016/07/04/proper-tire-pressure-can-keep-you-out-car-accidents/86667754/https://www.usatoday.com/story/money/cars/2016/07/04/proper-tire-pressure-can-keep-you-out-car-accidents/86667754/