#85RB 257::Meditation is key to success,मेडिटेशन सफलता के लिए बहुत जरूरी

#85RB 257::Meditation is key to success,मेडिटेशन सफलता के लिए बहुत जरूरी https://ift.tt/3jETjQP

Wonderful message for meditation.All have to do.

*शरीर और आत्मा का वार्तालाप*

सुबह के 4 बजे

*आत्मा*- चलो ! आत्मा की साधना का समय हो गया है…उठो, उठो ना…

*शरीर*- सोने दो ना…! अभी क्यों तंग कर रही हो, रात को बहुत देर से सोया था । थोड़ी देर बाद उठकर साधना करूँगा ।

*आत्मा*- ठीक है और थोड़ी देर बाद ही सही ।

सुबह के 6 बजे

*आत्मा*- अब तो उठ जाओ भाई ! सूरज भी अपनी किरणें फैलाता हुआ हमें जगा रहा है, उठो ना ।

*शरीर*- कितना परेशान करती हो…ठीक है, उठ रहा हूँ, बस 5 मिनट और…

थोड़ी देर बाद शरीर उठा और साधना के लिए बैठ गया और 10 मिनट बाद ही उठने लगा । तब…
*आत्मा बोली*- अरे अरे…! क्या हुआ ? इतनी जल्दी क्या है, अभी तो मुझे शांति मिलना शुरु हुई और तुम उठ गये…

*शरीर*- अरे…! मुझे घर का और आफिस का कितना काम है तुम्हारी समझ में तो कुछ नहीं आता और अभी नाश्ता भी करना है ।

*आत्मा*- ठीक है तो शाम को साधना तो करोगे ना…

*शरीर*(परेशान होते हुए) – हाँ भाई ! हाँ जरूर करूँगा ।

सारा दिन निकल गया । आत्मा दिनभर के काम, राग-द्वेष के परिणामों से आकुलित हुई और शाम को शरीर से बोली – अरे ! शाम हो गई, अब तो फ्री हो गये होंगे । अब तो चलो साधना के लिए…।

*शरीर (चिल्लाते हुए)*- क्यों सारा दिन तंग करती रहती हो…देखती नहीं अभी आफिस में दिन भर काम करके आया हूँ, बहुत थक गया हूँ ।

*आत्मा*- अरे ! फिर तो बहुत अच्छी बात है, यदि तुम थके हुए हो तो एक बार आत्मा की साधना करोगे तो थकान तुरन्त दूर हो जायेगी ।

*शरीर*- अभी नहीं ! अभी थोड़ा टीवी देख लूँ । रात को पक्का बैठूँगा…।

रात को थकान से शरीर की आँखें बंद हो रही हैं । मुश्किल से शरीर स्थिर होकर बैठा और नींद आने लगी । शरीर उठा और सोने के लिए जाने लगा तो…

*आत्मा बोल उठी*- अरे अरे! क्या हुआ ? अभी-अभी तो बैठे थे, अचानक उठकर कहाँ जाने लगे ?

*शरीर*- मैं बहुत थक गया हूँ, कल सुबह 4 बजे आत्म साधना के लिए जरूर बैठूँगा ।

आत्मा चुप हो गई तभी शरीर ने मोबाइल पर अपने एक मित्र का मैसेज देखा और सोचा – अरे वाह ! ये तो मेरे दोस्त का मैसेज है । थोड़ी देर चैटिंग कर लूँ फिर सो जाऊँगा और वह चैटिंग करने लगा ।

*आत्मा*- देखो ! चैटिंग करने के लिए नींद भाग गई और साधना के नाम पर इसे नींद आ रही थी और जिस आत्मा के कारण यह जीवन जी रहा है उसके नाम पर नींद आने लगती है । चलो….! कल देखते हैं ।

*दूसरे दिन वही दिनचर्या और जीवन समाप्त ।*

यही परम सत्य है, पल पल समय बीत रहा है, और प्रभु का सिमरन करने का समय नहीं है। 🙏🏻🙏🏻

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.