उल्टी यात्रा
बुढ़ापे से बचपन की तरफ़

शानदार बातें::उल्टी यात्रा
बुढ़ापे से बचपन की तरफ़
जो ५५ ६० को पार कर गये हैं उनके लिए यह खास

मेरा मानना है कि , दुनिया में ‌जितना बदलाव हमारी पीढ़ी ने देखा है, हमारे बाद की किसी पीढ़ी को “शायद ही ” इतने बदलाव देख पाना संभव हो।

हम वो आखिरी पीढ़ी हैं, जिसने बैलगाड़ी से लेकर सुपर सोनिका जेट देखे हैं। बैरंग ख़त से लेकर लाइव चैटिंग तक देखा है, और “वर्चुअल मीटिंग जैसी” असंभव लगने वाली बहुत सी बातों को सम्भव होते हुए देखा है।

🙏 हम वो “पीढ़ी” हैं, 🇳🇪
जिन्होंने कई-कई बार मिटटी के घरों में बैठ कर, परियों और राजाओं की कहानियां सुनीं हैं। जमीन पर बैठकर खाना खाया है। प्लेट में डाल डाल कर चाय पी है।

🙏 हम 🇳🇪 वो “लोग” हैं,
जिन्होंने बचपन में मोहल्ले के मैदानों में अपने दोस्तों के साथ पम्परागत खेल, गिल्ली-डंडा, छुपा-छिपी, खो-खो, कबड्डी, कंचे जैसे खेल खेले हैं।

🙏हम आखरी पीढ़ी 🇳🇪 के वो लोग हैं,
जिन्होंने चांदनी रात , डीबली , लालटेन, या बल्ब की पीली रोशनी में होम वर्क किया है। और दिन के उजाले में चादर के अंदर छिपा कर नावेल पढ़े हैं।

🙏हम वही 🇳🇪 पीढ़ी के लोग हैं,
जिन्होंने अपनों के लिए अपने जज़्बात, खतों में आदान प्रदान किये हैं। और उन ख़तो के पहुंचने और जवाब के वापस आने में महीनों तक इंतजार किया है।

🙏हम उसी 🇳🇪 आखरी पीढ़ी के लोग हैं,
जिन्होंने कूलर, एसी या हीटर के बिना ही बचपन गुज़ारा है। और बिजली के बिना भी गुज़ारा किया है।

🙏हम वो 🇳🇪 आखरी लोग हैं,
जो अक्सर अपने छोटे बालों में, सरसों का ज्यादा तेल लगा कर, स्कूल और शादियों में जाया करते थे।

🙏हम वो आखरी पीढ़ी 🇳🇪 के लोग हैं,
जिन्होंने स्याही वाली दावात या पेन से कॉपी, किताबें, कपडे और हाथ काले, नीले किये है। तख़्ती पर सेठे की क़लम से लिखा है और तख़्ती धोई है।

🙏हम वो आखरी 🇳🇪 लोग हैं,
जिन्होंने टीचर्स से मार खाई है। और घर में शिकायत करने पर फिर मार खाई है।

🙏हम वो 🇳🇪 आखरी लोग हैं,
जो मोहल्ले के बुज़ुर्गों को दूर से देख कर, नुक्कड़ से भाग कर, घर आ जाया करते थे। और समाज के बड़े बूढों की इज़्ज़त डरने की हद तक करते थे।

🙏 हम वो 🇳🇪 आखरी लोग हैं,
जिन्होंने अपने स्कूल के सफ़ेद केनवास शूज़ पर, खड़िया का पेस्ट लगा कर चमकाया हैं।

🙏हम वो 🇳🇪 आखरी लोग हैं,
जिन्होंने गोदरेज सोप की गोल डिबिया से साबुन लगाकर शेव बनाई है। जिन्होंने गुड़ की चाय पी है। काफी समय तक सुबह काला या लाल दंत मंजन या सफेद टूथ पाउडर इस्तेमाल किया है और कभी कभी तो नमक से या लकड़ी के कोयले से दांत साफ किए हैं।

🙏हम निश्चित ही वो 🇳🇪 लोग हैं,
जिन्होंने चांदनी रातों में, रेडियो पर BBC की ख़बरें, विविध भारती, ऑल इंडिया रेडियो, बिनाका गीत माला और हवा महल जैसे प्रोग्राम पूरी शिद्दत से सुने हैं।

🙏हम वो 🇳🇪 आखरी लोग हैं,
जब हम सब शाम होते ही छत पर पानी का छिड़काव किया करते थे। उसके बाद सफ़ेद चादरें बिछा कर सोते थे। एक स्टैंड वाला पंखा सब को हवा के लिए हुआ करता था। सुबह सूरज निकलने के बाद भी ढीठ बने सोते रहते थे। वो सब दौर बीत गया। चादरें अब नहीं बिछा करतीं। डब्बों जैसे कमरों में कूलर, एसी के सामने रात होती है, दिन गुज़रते हैं।

🙏हम वो 🇳🇪 आखरी पीढ़ी के लोग हैं,
जिन्होने वो खूबसूरत रिश्ते और उनकी मिठास बांटने वाले लोग देखे हैं, जो लगातार कम होते चले गए। अब तो लोग जितना पढ़ लिख रहे हैं, उतना ही खुदगर्ज़ी, बेमुरव्वती, अनिश्चितता, अकेलेपन, व निराशा में खोते जा रहे हैं।
और
🙏हम वो 🇳🇪 खुशनसीब लोग हैं, जिन्होंने रिश्तों की मिठास महसूस की है…!!

🙏और हम इस दुनिया के वो लोग भी हैं, जिन्होंने एक ऐसा “अविश्वसनीय सा” लगने वाला नज़ारा भी देखा है ?

आज के इस करोना काल में परिवारिक रिश्तेदारों (बहुत से पति-पत्नी, बाप – बेटा, भाई – बहन आदि) को एक दूसरे को छूने से डरते हुए भी देखा है। 🙏पारिवारिक रिश्तेदारों की तो बात ही क्या करे, खुद आदमी को अपने ही हाथ से, अपनी ही नाक और मुंह को, छूने से डरते हुए भी देखा है। 🙏
“अर्थि” को बिना चार कंधों के, श्मशान घाट पर जाते हुए भी देखा है।
“पार्थिव शरीर” को दूर से ही “अग्नि दाग” लगाते हुए भी देखा है। 🙏

🙏हम आज के 🇳🇪 भारत की एकमात्र वह पीढ़ी है ?
जिसने अपने “माँ-बाप” की बात भी मानी, और “बच्चों” की भी मान रहे है। 🙏

शादी मे (buffet) खाने में वो आनंद नहीं जो पंगत में आता था जैसे….

सब्जी देने वाले को गाइड करना, हिला के देना या तरी तरी देना!

👉 उँगलियों के इशारे से 2 लड्डू और गुलाब जामुन, काजू कतली लेना।
👉 पूडी छाँट छाँट के
और गरम गरम लेना !
👉 पीछे वाली पंगत में झांक के देखना क्या क्या आ गया !
अपने इधर और क्या बाकी है।
जो बाकी है उसके लिए आवाज लगाना।

👉 पास वाले रिश्तेदार के पत्तल में जबरदस्ती पूड़ी रखवाना !

👉 रायते वाले को दूर से आता देखकर फटाफट रायते का दोना पीना ।

👉 पहले वाली पंगत कितनी देर में उठेगी। उसके हिसाब से बैठने की पोजीशन बनाना।

👉 और आखिर में पानी वाले को खोजना।
😜
…………..
एक बात बोलूँ, कृपया ‌इनकार मत करना,
ये मेसेज जितने मरजी लोगों को भेजो,
जो इस मेसेज को पढ़ेगा,‌ उसको उसका बचपन जरुर याद आयेगा।
वो आपकी वजह से अपने बचपन में चला जाएगा, चाहे कुछ देर के लिए ही सही।
और ये आपकी तरफ से उसको सबसे अच्छा गिफ्ट होगा.
😊
~~~~
किसी बुजुर्ग ने यह लेखन मुझे भेजा है।
मैं इसे आपको भेज रहा हूँ। क्या आप भी इसी तरह इसे किसी अन्य को भेजेंगे ???
सिलसिला चलता रहे।❤️

दोस्तों जिंदगी के अंदर जबरदस्त उतार-चढ़ाव आते हैं और समय-समय पर टेक्नोलॉजी भी बदलती है मैं टेक्सटाइल का आपको एग्जांपल देता हूं यहां पर मैंने 1981 से मिलो मैं काम करना शुरू किया जो काम हमने शुरुआत में किया और जो हम आज कर रहे हैं उसकी तकनीक में जबरदस्त ढंग से बदलाव आया है।

जिस तरह से मशीनों का उत्पादन उस समय था और कुछ निर्धारित कामगारों के साथ था उसका आज बिल्कुल ही नक्शा बदल चुका है।

तकनीकी सुधार इतने अच्छे हो चुके हैं कंप्यूटरीकरण का युग आ चुका है आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का जमाना आ चुका है।

सभी अपने विचार कॉमेंट बॉक्स में लिखें कृपया करके

www.wondertips777.com

” बुढ़ापा Vs. वरिष्ठता “👴🏻

दोनों के अंतर को समझें और जीवन का आनंद लें ।
इंसान को उम्र बढ़ने पर… “ बूढ़ा” नहीं बल्कि …. “ वरिष्ठ ” बनना चाहिए ।

“ बुढ़ापा ”…अन्य लोगों का आधार ढूँढता है,
“ वरिष्ठता ”… लोगों को आधार देती है.

“ बुढ़ापा ”… छुपाने का मन करता है,
“वरिष्ठता”…उजागर करने का मन करता है ।

“ बुढ़ापा ”…अहंकारी होता है,
“वरिष्ठता”…अनुभवसंपन्न, विनम्र व संयमशील होती है

“बुढ़ापा”…नईपीढ़ी के विचारों से छेड़छाड़ करता है,
“वरिष्ठता”…युवापीढ़ी को बदलते समय के अनुसार, जीने की छूट देती है ।

“बुढ़ापा”“हमारे ज़माने में ऐसा था” की रट लगाता है,
“वरिष्ठता”… बदलते समय से अपना नाता जोड़ती है और उसे अपना लेती है।

“बुढ़ापा”… नईपीढ़ी पर अपनी राय थोपता है,
“वरिष्ठता”… तरुणपीढ़ी की राय समझने का प्रयास करती है।

“बुढ़ापा”… जीवन की शाम में अपना अंत ढूंढ़ता है,
“वरिष्ठता”… जीवन की शाम में भी एक नए सवेरे का इंतजार करती है तथा युवाओं की स्फूर्ति से प्रेरित होती है ।
•••••••

“वरिष्ठता” और “बुढ़ापे” के बीच के अंतर को…. गम्भीरतापूर्वक समझकर, जीवन का आनंद पूर्ण रूप से लेने में सक्षम बनिए।
उम्र कोई भी हो….
सदैव फूल की तरह खिले रहिए,….
उमंग उत्साह में रहिए…
और दूसरों के जीवन के लिए प्रेरणा बनिए ….🙏🏻

AFFILIATE LINKS AMAZON.IN

Garments for all

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/apparel?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=411370469568002b2aa51fec4aa0841c&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

https://www.amazon.in/Atomic-Habits-James-Clear/dp/1847941834?_encoding=UTF8&psc=1&refRID=V2CBPHBFX6B2N9NHCQJN&linkCode=ll1&tag=wondertips70e-21&linkId=7cf70a2e20e289e87c395bfc4b0e1450&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl


https://www.amazon.in/gp/bestsellers/electronics?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=8f88fe80a44d7556d7d94402238d8111&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Baby care

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/baby?ie=UTF8&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=bd8dae349638c39edd6efc92dbed02a3&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Bestsellers in computers

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/electronics/1458204031?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=5f5b9c2187f28e918330e001a4a5aca2&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Bestsellers in Laptops

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/electronics/1375424031?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=562f44ac07a83c4e46f9fe7d6aa10663&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Bestsellers in health & personal care

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/hpc?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=4ace82f63c760f79fa24d0281a566097&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

https://www.amazon.in/gp/bestsellers?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=cac883fc3b34635fcaed4bc88a418e3a&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Boys apparels

https://www.amazon.in/gp/bestsellers/apparel/1967851031?&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=23b6ad0a2cc110e8d7453aad8ac169c5&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Women

https://www.amazon.in/s?bbn=1953602031&rh=n%3A1953602031%2Cp_n_pct-off-with-tax%3A27060457031&dc=&qid=1633135310&rnid=2665398031&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=c4bab542cefb29da64a22dcaf1ee5e29&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Women sportswear

https://www.amazon.in/s?i=apparel&bbn=1953602031&rh=n%3A1571271031%2Cn%3A1953602031%2Cn%3A1968428031%2Cp_n_pct-off-with-tax%3A27060457031&dc=&qid=1633135331&rnid=1953602031&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=9fd45fb900c0ede62bec62114e8de64f&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Mens wear

https://www.amazon.in/s?bbn=1968024031&rh=n%3A1571271031%2Cn%3A1968024031%2Cn%3A1968062031&dc=&qid=1633135537&rnid=1968024031&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=6e016bceafad4d61ca2b306b7af795dd&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Kitchen choppers

https://www.amazon.in/s?k=choppers+tupperware&rh=n%3A4951860031&linkCode=ll2&tag=wondertips70e-21&linkId=4cb305ae344bb2270c2cac867e28113f&language=en_IN&ref_=as_li_ss_tl

Sea view from colaba

Leave a Reply