ॐ (OM) उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ :How you can be beneficial with chanting OM?

ॐ (OM) उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ :

ॐ : ओउम् तीन अक्षरों से बना है।
अ उ म् ।
“अ” का अर्थ है उत्पन्न होना,
“उ” का तात्पर्य है उठना, उड़ना अर्थात् विकास,
“म” का मतलब है मौन हो जाना अर्थात् “ब्रह्मलीन” हो जाना।
ॐ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और पूरी सृष्टि का द्योतक है।
ॐ का उच्चारण शारीरिक लाभ प्रदान करता है।
जानीए
ॐ कैसे है स्वास्थ्यवर्द्धक और अपनाएं आरोग्य के लिए ॐ के उच्चारण का मार्ग…

उच्चारण की विधि

प्रातः उठकर पवित्र होकर ओंकार ध्वनि का उच्चारण करें। ॐ का उच्चारण पद्मासन, अर्धपद्मासन, सुखासन, वज्रासन में बैठकर कर सकते हैं। इसका उच्चारण 5, 7, 10, 21 बार अपने समयानुसार कर सकते हैं। ॐ जोर से बोल सकते हैं, धीरे-धीरे बोल सकते हैं। ॐ जप माला से भी कर सकते हैं।

01) ॐ और थायराॅयडः

ॐ का उच्चारण करने से गले में कंपन पैदा होती है जो थायरायड ग्रंथि पर सकारात्मक प्रभाव डालता है।

*02) *ॐ और घबराहटः-*
अगर आपको घबराहट या अधीरता होती है तो ॐ के उच्चारण से उत्तम कुछ भी नहीं।

*03) *..ॐ और तनावः-*
यह शरीर के विषैले तत्त्वों को दूर करता है, अर्थात तनाव के कारण पैदा होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है।

*04) *ॐ और खून का प्रवाहः-*
यह हृदय और ख़ून के प्रवाह को संतुलित रखता है।

5) ॐ और पाचनः-

ॐ के उच्चारण से पाचन शक्ति तेज़ होती है।

06) ॐ लाए स्फूर्तिः-
इससे शरीर में फिर से युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार होता है।

07) ॐ और थकान:-
थकान से बचाने के लिए इससे उत्तम उपाय कुछ और नहीं।

08) .ॐ और नींदः-
नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है। रात को सोते समय नींद आने तक मन में इसको करने से निश्चिंत नींद आएगी।

09) .ॐ और फेफड़े:-
कुछ विशेष प्राणायाम के साथ इसे करने से फेफड़ों में मज़बूती आती है।

10) ॐ और रीढ़ की हड्डी:-
ॐ के पहले शब्द का उच्चारण करने से कंपन पैदा होती है। इन कंपन से रीढ़ की हड्डी प्रभावित होती है और इसकी क्षमता बढ़ जाती है।

11) ॐ दूर करे तनावः-
ॐ का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव-रहित हो जाता है।

आशा है आप अब कुछ समय जरुर ॐ का उच्चारण करेंगे ।

When you chant Om, a vibration sound felt through your vocal cord that clears and opens up the sinuses. Chanting Om also has cardiovascular benefits. It reduces stress and relaxes your body that brings down the blood pressure on the normal level and the heart beats with a regular rhythm.

How many times we should chant Om?

रोज सुबह सूर्योदय के समय उठ जाये इसके बाद एक शांत जगह पर जाकर बैठ जाएं, सुखासन या किसी और आसान में बैठकर ॐ का 108 बार उच्चारण करें. ॐ को बोलते समय पूरा ध्यान बोलने पर ही रखें इससे मस्तिष्क में मौन उतर जायेगा पूरा शरीर तनाव रहित और शांत होने लगेगा.

हिन्दू धर्म में मन्त्रों का काफी महत्व होता है। कई मंत्र इतने शक्तिशाली होते हैं कि उनके जाप से व्यक्ति के सारे पाप, कष्ट मिट जाते हैं। इन्ही में से एक शक्तिशाली मंत्र है ॐ। ॐ का जाप करनें से व्यक्ति को असीम शांति की प्राप्ति भी होती है। इस मंत्र के जाप के बगैर हर पूजा निष्फल मानी जाती है। मान्यताओं के अनुसार ॐ देखनें में भले ही छोटा मंत्र लगता है लेकिन इसके अन्दर पूरा ब्रह्माण्ड समाया हुआ है।

क्या आप करते हैं ॐ का सही उच्चारण?

यह एक मंत्र अगर किसी मंत्र के आगे जुड़ जाता है तो उसका प्रभाव कई गुणा बढ़ जाता है। आम धारणा के अनुसार जब व्यक्ति किसी मंत्र का जाप करनें लगता है तो ॐ शब्द को छोड़कर अन्य सभी शब्दों पर ज्यादा ध्यान देता है।

लेकिन क्या आपने कभी इसके बारे में विचार किया है कि ॐ शब्द का सही उच्चारण क्या है? जिस शब्द के इस्तेमाल से किसी भी मंत्र का महत्व कई गुणा बढ़ जाता है, क्या हम उस मंत्र का सही उच्चारण कर रहे हैं।

शास्त्रों में कहा गया है कि ॐ मंत्र का सही उच्चारण करनें से व्यक्ति ब्रह्माण्ड की शक्तियों को प्राप्त कर लेता है। केवल यही नहीं इसके जाप से व्यक्ति के जीवन के सभी कष्ट, पाप मिट जाते हैं।

इस बात को वैज्ञानिक भी मान चुके हैं कि ॐ मंत्र का जाप करनें से व्यक्ति को मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। इसलिए इस मंत्र का जाप सही तरीके से करना बहुत ही जरुरी है। आज हम आपको इस मंत्र का जाप करनें का सही तरीका भी बताएँगे।

https://www.newstrend.news/75961/keep-these-things-in-mind-during-chant-of-om/https://www.newstrend.news/75961/keep-these-things-in-mind-during-chant-of-om/

यह भी पढ़ें: ॐ शब्द का महत्व


People also ask

ओम मंत्र बोलने से क्या होता है?

ओम का सही उच्चारण कैसे करें?

ओम का जाप कैसे करना चाहिए?

ओम का जाप कब करें?

searches

ओम का उच्चारण करने के फायदे

ओम का उच्चारण कैसे करें

ओम का सही उच्चारण

ओम ध्वनि का उच्चारण

ओम मंत्र का जाप कैसे करें

ओम का जाप

ओम का उच्चारण करने से कौन सी गैस ज्यादा मात्रा में बाहर निकलती है

ओम का ध्यान


ॐ ऐसा चमत्कारिक शब्द है जो कुछ ही दिनों में आपकी तमाम परेशानियों को खत्म करके आपके पूरे जीवन को बदलकर रख सकता है.

तमाम लोगों का ये कहना होता है उन पर काम का बोझ इतना ज्यादा है कि वे चाहकर भी भगवान के ध्यान, पूजा पाठ, योग व प्राणायाम के लिए समय नहीं निकाल पाते. ऐसे लोगों को कम से कम सुबह उठकर और रात में सोते समय शांति से बैठकर दो मिनट के लिए ॐ का जाप करना चाहिए. ये ऐसा चमत्कारिक शब्द है जो कुछ ही दिनों में आपकी तमाम परेशानियों को खत्म करके आपके पूरे जीवन को बदलकर रख सकता है. लेकिन इसके जाप का लाभ लेने के लिए नियमों को जानना जरूरी है.

जानें ॐ की शक्ति

धार्मिक रूप से ॐ शब्द को बहुत शक्तिशाली माना गया है. मान्यता है कि इसमें पूरा ब्रह्मांड समाया हुआ है. जब हम किसी मंत्रोच्चारण से पहले इस शब्द को बोलते हैं तो उस मंत्र का प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है. ॐ शब्द बोलते समय हमारे गले और शरीर में एक तरह का कंपन होता है, इसकी वजह से थायरॉयड, बीपी, लंग्स, पेट की समस्याएं ठीक होती हैं और शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बेहतर होती है. तमाम वैज्ञानिक भी मानते हैं कि ॐ के नियमित जाप से तनाव, डिप्रेशन, गुस्सा, अनिद्रा जैसी समस्याएं काफी नियंत्रित हो जाती हैं.https://bb623ff5075d982a07ea519a1bc50e66.safeframe.googlesyndication.com/safeframe/1-0-38/html/container.html?n=0

ग्रहों के प्रकोप से बचना है तो नए साल में इन आदतों को कहिए गुडबाय…!

ऐसे करें जाप

शांत जगह पर बैठें : ॐ केवल एक शब्द नहीं है, बल्कि ध्वनि है. जब हम इसका जाप करते हैं तो बोलते समय उत्पन्न हुई उस ध्वनि से ही हमें कई तरह के फायदे होते हैं. इसलिए इसका जाप हमेशा ऐसी जगह पर करना चाहिए जहां कोई शोरशराबा न हो.

गहराई से करें उच्चारण : ॐ का उच्चारण करते समय स्वर को जितना ऊंचे रखेंगे और जितनी गहराई से इसे बोलेंगे, आपको इसके उतने ही बेहतर लाभ मिलेंगे.

पद्मासन में करें जाप : ॐ का उच्चारण करने से पहले जमीन पर आसन लगाएं और पद्मासन में बैठें. इसके बाद आंखें बंद करके सांस खींचें और फिर पेट से ॐ की आवाज़ को निकालते हुए सांस छोड़ते चले जाएं.

सुबह और रात का समय : शास्त्रों के अनुसार दिन के चौबीस घंटों में से कुछ घंटों का समय ऐसा होता है जब ईश्वरीय शक्ति अपने चरम पर होती है. इस समय में किया गया जाप, पाठ, आराधना अधिक फलित होते हैं. इसलिए ॐ का जाप भी सुबह जल्दी और रात सोने से पहले करना चाहिए ताकि इसका पूरा फायदा आपको मिल सके.

Why is the word Om powerful?

Does chanting Om raise your vibration?

Why is chanting so powerful?

Om is considered to be one of the most important sounds in all the universe and has been chanted for thousands of years. It’s believed continuous practice leads to profound enlightenment.

But there are more than just a few benefits to this powerful, ancient practice…there are many that affect us and our environment in different ways.

https://blog.sivanaspirit.com/md-sp-benefits-chanting-om/https://blog.sivanaspirit.com/md-sp-benefits-chanting-om/

om chanting benefitsscientific researchscientific benefitsof om chantinglistening to omchanting benefitsspiritual benefitsof chanting om

Table of Contents

7 thoughts on “ॐ (OM) उच्चारण के 11 शारीरिक लाभ :How you can be beneficial with chanting OM?

Leave a Reply