मत परेशान रहिये मस्त रहिये व्यस्त रहिये क्योंकि?Why to worry in life,live lively

मत परेशान रहिये मस्त रहिये व्यस्त रहिये क्योंकि

  1. पैतालीस साल की अवस्था में “उच्च शिक्षित” और “अल्प शिक्षित” एक जैसे ही होते हैं।
  2. पचपन साल की अवस्था में “रूप” और “कुरूप” एक जैसे ही होते हैं। (आप कितने ही सुन्दर क्यों न हों झुर्रियां, आँखों के नीचे के डार्क सर्कल छुपाये नहीं छुपते)
  3. साठ साल की अवस्था में “उच्च पद” और “निम्न पद” एक जैसे ही होते हैं। (चपरासी भी अधिकारी के सेवा निवृत्त होने के बाद उनकी तरफ़ देखने से कतराता है)
  4. सत्तर साल की अवस्था में “बड़ा घर” और “छोटा घर” एक जैसे ही होते हैं। (घुटनों का दर्द और हड्डियों का गलना आपको बैठे रहने पर मजबूर कर देता है, आप छोटी जगह में भी गुज़ारा कर सकते हैं)
  5. अस्सी साल की अवस्था में आपके पास धन का “होना” या “ना होना” एक जैसे ही होते हैं। ( अगर आप खर्च करना भी चाहें, तो आपको नहीं पता कि कहाँ खर्च करना है)
  6. नब्बे साल की अवस्था में “सोना” और “जागना” एक जैसे ही होते हैं। (जागने के बावजूद भी आपको नहीं पता कि क्या करना है).

जीवन को सामान्य रुप में ही लें क्योंकि जीवन में रहस्य नहीं हैं जिन्हें आप सुलझाते फिरें।

आगे चल कर एक दिन हम सब की यही स्थिति होनी है इसलिए चिंता, टेंशन छोड़ कर मस्त रहें स्वस्थ रहें।

यही जीवन है और इसकी सच्चाई भी।

*”चैन से जीने के लिए चार रोटी और दो कपड़े काफ़ी हैं
पर,
बेचैनी से जीने के लिए चार मोटर कार,
*दो बंगले और दस प्लॉट भी कम हैं !!”*
हाय हाय पैसा करते दस बिमारीयों को फ्रि में लेकर चलते हो
☺️☺️☺️☺️☺️
🌹🌲🌴🌿🍀🌴

It’s interesting that when we are thinking about ourselves, age becomes just a number and feels somewhat meaningless. However, the positive way we tend to see our own age, doesn’t always translate to how we perceive, or even judge the age of others. We’re all guilty of it. I’m sure at some point, you’ve unwittingly, and with the best of intentions, said gushingly to an older relative or friend, “you look great for your age” or, at work, perhaps have automatically assumed your ‘older colleague’ won’t know how to use the latest technology – all because their chronological age is numerically higher than your own. Somehow, they are ‘old’, while you assume you are ‘young’. How come?

The world around us, with its prevailing cultural beliefs and social norms, reinforces this harmful thinking every day – even down to the language we’re continuously exposed to.

For instance, in the UK, at the young age of 60, you can apply for an ‘older persons’ bus pass – that’s actually what it’s called, and I am eligible for one soon, even though I do not regard myself as an ‘older person’!

While enjoying your morning coffee, leafing through your newspaper (or scrolling online), you’ll probably be confronted with an array of attention-grabbing headlines including the words ‘pensioner’, ‘elderly’ or ‘senior’ when referring to older people.

It feels as if we are subliminally taught that ageing is somehow negative, something to be endured, something that makes us less capable – both in our personal and our working lives.

According to the World Health Organization (WHO) as soon as 2050, the world’s population aged 60 years and older is expected to double to two billion.

Given the world is getting older, it’s about time we start to tackle the underlying ageism that is so prevalent in our society and, thus, in many of our workplaces.

After all, whether we like it or not, we are all growing older as each day passes – there’s no getting away from that. So, if we don’t start to make a change now, in 30 years’ time, our children and grandchildren will have to endure the same ageist attitudes that we are facing today.

Table of Contents

Leave a Reply